Wednesday, July 6, 2011

सफ़र की हद है वहाँ तक कि कुछ निशान रहे,
चले चलो के जहाँ तक ये आसमान रहे,
ये क्या उठाये क़दम और आ गई मन्ज़िल,
मज़ा तो जब है के पैरों में कुछ थकान रहे...!
Eyewall

No comments:

Vertical Bar

c6284600b2c4504c4700725ae468c08f7f18e548a102af1d31

Popular Posts